Friday, January 21, 2011

दिल जलता है दीपक जैसे....कवियत्री डॉ कविता'किरण' का 27 जन 2011 को दुबई में काव्य-पाठ--...

Bharteeya dootawas ki aur se 27 jan 2011 ko Gantantra diwas ke shubh avsar per "Dubai shopping festival' DUBAI mein aayojit kavi sammelan-mushayre mein iss baar main bhi kavy-path hetu aamantrit kee gayi hun....sath hi 24 jan ko Gaziyabad kavi sammelan mein aur 25 jan ko Jaipur(sarvbhasha sadbhavna kavi sammelan) mein bhag lekar apni matra bhasha Rajasthani ka pratinidhitv bhi karungi. ..aap sabhi mitron ki shubhkamnayen apekshit hain....kavita'kiran'
पहुंचेगा मंजिल तक जैसे
दिल जलता है दीपक जैसे

मुड-मुड कर वो देख रहा है
उसको मुझ पर हो शक जैसे

खनक उठे दिल के दरवाज़े
उसने दी हो दस्तक जैसे

सीने में इक ख़ामोशी है
सहम गयी हो धक्-धक् जैसे

आज जिया है वो जी-भरकर
मौत टली हो कल तक जैसे

हर मंजिल पर वो ही वो है
हर रस्ता है उस तक जैसे

'किरण' सताए वो कुछ ऐसे
मुझ पर हो उसका हक जैसे
********
डॉ कविता'किरण'






12 comments:

  1. हर मंजिल पर वो ही वो है
    हर रस्ता है उस तक जैसे ....

    ये शे'र पसंद आया ... बधाई स्वीकार करें

    अर्श

    ReplyDelete
  2. shukriya arshji..gazal ka ek sheir to kamyaab hua..:))

    ReplyDelete
  3. एक से बढ़कर एक शेरों का गुलदस्ता - लाजवाब ग़ज़ल

    ReplyDelete
  4. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 25-01-2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    ReplyDelete
  5. खूबसूरत ग़ज़ल………आभार!!!!!

    ReplyDelete
  6. आज तो आप व्यस्त होंगी जयपुर में ....हमारी शुभकामनायें ...रचना बहुत अच्छी लगी

    ReplyDelete
  7. हर मंजिल पर वो ही वो है
    हर रस्ता है उस तक जैसे .

    ये शे'र पसंद आया . बधाई स्वीकार करें

    ReplyDelete
  8. मेम !
    दुबई यात्रा के लिए बधाई ảउ वहा भी अपने शेरो से सभी को नत मस्तक कर्देगी , ये उम्मीद है .
    बधाई !

    ReplyDelete
  9. कभी लगें मुक्तक जैसे।
    कभी लगें पुस्तक जैसे॥
    शेर आपकी गजलों के-
    यादों के गुल्लक जैसे॥
    सरस एवं प्रभावशाली रचनाएं की प्रस्तुति के लिए बधाई स्वीकार कीजिए और गणतंत्र-दिवस के अवसर पर मंगल कामनाएं भी।
    ===========================
    मुन्नियाँ देश की लक्ष्मीबाई बने,
    डांस करके नशीला न बदनाम हों।
    मुन्ना भाई करें ’बोस’ का अनुगमन-
    देश-हित में प्रभावी ये पैगाम हों॥
    ===========================
    सद्भावी - डॉ० डंडा लखनवी

    ReplyDelete
  10. Aap sabhi mitron ko housl afzahi ke liye bahut bahut shukriya...

    ReplyDelete
  11. bahut acchi gazal... aur abhi aapka video dekha... bahut sundar aur joshilaa kavyapaath... behad achha laga..

    ReplyDelete