Thursday, April 15, 2010

जिसकी आँखों में सिर्फ पानी है ..Jiski aankho me sirf pani hai...


जिसकी आँखों में सिर्फ पानी है
वो ग़ज़ल आपको सुनानी है 

अश्क कैसे गिरा दूँ पलकों  से 
मेरे महबूब की निशानी  है
 
लब पे वो बात ला नहीं पाए   
जो कि हर हाल  में बतानी  है

 कहीं आंसू कहीं तबस्सुम  है
कुछ हकीकत है कुछ कहानी  है

हमने लिखा नहीं  किताबों में
अपना जो भी है मुंह ज़बानी है 

कर दी आसान मुश्किलें सारी 
मौत भी किस क़दर सुहानी है 

आज तो बोल दे 'किरण' सब कुछ   
ख़त्म पर फिर तो जिंदगानी है
  **************
( 'दर्द का सफ़र' में से )
डॉ कविता'किरण'

32 comments:

  1. बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  2. aansu kaise gira dun ,mere mehboob ki nishani hai.
    bahut khoob-bahut hi khoob-bahoot bahut hi khoob!
    badhai ho!
    kavita ji kabhi kabhi to aap kamal hi kar deti han.ek bar fir badhai!

    ReplyDelete
  3. behtreen gazal..........shandar sher.

    ReplyDelete
  4. लाजवाब ग़ज़ल ... हर शेर क़ाबिले तारीफ़ .. सुभान अल्ला ही निकलता है

    ReplyDelete
  5. hey Kavita...

    Really nice work there. You have a way with words, which say a lot even when not much is said. We appreciate your talent and would like you on-board with us at http://www.tumbhi.com It's a platform for artists and art lovers to come together. Hope to see you on-board.

    Many congratulations on your work.

    -- Tumbhi

    Website- http://www.tumbhi.com
    Facebook -http://www.facebook.com/home.php?#!/TUMBHI
    Twitter- http://www.twitter.com/tumbhi
    Blog- http://tumbhi.livejournal.com/

    ReplyDelete
  6. हमने लिखा नहीं किताबों में
    अपना जो भी है मुंह ज़बानी है
    एक और लाजवाब शे’र!

    ReplyDelete
  7. अश्क कैसे गिरा दूँ पलकों से
    मेरे महबूब की निशानी है
    ओह! नो! अद्भुत! उत्तम अभिव्यक्ति!!!

    ReplyDelete
  8. bahut khoobsurat Matla kaha hai aapne Kavita ji

    ReplyDelete
  9. बहुत ही बेहतरीन गजल!
    कल के चर्चा मंच में इसे चुरा लिया है!
    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  10. बहुत खूबसूरत ग़ज़ल...जज़्बात अल्फाजों में ढाल दिए हैं....बहुत खूब

    ReplyDelete
  11. bahut sundar



    shekhar kumawat

    http://kavyawani.blogspot.com/

    ReplyDelete
  12. VERY NICE.

    आपकी पोस्ट की चर्चा यहाँ भी की गई है-

    http://charchamanch.blogspot.com/2010/04/blog-post_6838.html

    ReplyDelete
  13. चर्चा मंच से आपके ब्लॉग पर आया । आपकी यह ग़ज़ल बहुत अच्छी लगी । बधाई ! हर एक शेर उम्दा है !

    ReplyDelete
  14. हर शे'र सुन्दर आकर्षक है...

    "हमने लिखा नहीं किताबों में.... "
    बहुत खूब.

    ReplyDelete
  15. hmmm.....achhi ghazal....chhoti behar me kafi kuch kehne ki koshish hai ...

    ReplyDelete
  16. अश्क कैसे गिरा दूँ पलकों से
    मेरे महबूब की निशानी है

    वाह वाह कविता जी वाह...बेहद खूबसूरत अशआरों से सजी आपकी ये ग़ज़ल लाजवाब है...दाद कबूल करें...
    नीरज

    ReplyDelete
  17. Wah kya baat hein ........

    humne likha nahi kitabon mein !
    apna jo bhi hein muh-jubani hein !!

    kya baat hein... bahut hi badiya .

    ReplyDelete
  18. अश्क कैसे गिरा दूँ पलकों से
    मेरे महबूब की निशानी है

    बहुत खूब. बहत ही खूब . क्या ज़ज्बा है मौहब्बत का. महबूब की निशानी . बधाई इस ग़ज़ल के लिए.

    ReplyDelete
  19. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    इसे 17.04.10 की चिट्ठा चर्चा (सुबह 06 बजे) में शामिल किया गया है।
    http://chitthacharcha.blogspot.com/

    ReplyDelete
  20. Bahut hee umda gajal---har sher ek se badh kar ek bhavon ke sath.
    Poonam

    ReplyDelete
  21. अश्क कैसे गिरा दूं पलकों से...
    मेरे महबूब की निशानी है...

    कविता जी, वाक़ई शेर हुआ है

    कहीं आंसू कहीं तबस्सुम हैं...
    कुछ हकीकत है कुछ कहानी है.
    लाजवाब शायरी.....दिल को छूने वाली

    ReplyDelete
  22. अश्क कैसे गिरा दूँ पलकों से
    मेरे महबूब की निशानी है..यह बहुत पसंद आया..बेहतरीन ब्लॉग..

    ReplyDelete
  23. jisaki aankho mei sirf paani hei ..... ne dil ko chu liya kavitaji aap ne bahut hi achche dhang se eik dil ki bejubani ko sabdo ke maadhyam se baya kiya hei aapki inn lines nei dil ko choo liya kash mei aapki yeh puri kavita padh sakta muzhako lagta hei aap jo likhte hei wo sirf likhna hi nahi kahi na kahi kisi ke dil ki aawaaz si lagti hei lagta hei kisi ke dil ki hei jo aapne apane shabdo ke madhyam se bakhubi eik mala bana kar piroye hei jo dil ke taro ko zhakjhor kar dil mei eik alag sa kampan sa kar diya karta hei aapki lines ko padh kar hum to aapke diwane ho gaye ..............hamare dil ke liye aap bhi kuch kahe to achcha lagega kavita.................

    ReplyDelete
  24. कविता जी . आपकी गजल सजल करने को पर्याप्त है । जो अश्क आया उसे गिराया नही , लिख दिया ।

    ReplyDelete
  25. shukriya aruneshji aapne sahi farmaya.
    Aur shishirji aap jaroor meri kavitaon ke kayal honge lekin main to aapke comments ki kayal hun.aapki vistrat vyakhya mujhe housla aur utsah deti.aage bhi aap mere blog per aate tahenge ye umeed karti hun.

    ReplyDelete
  26. उम्दा गजल...वाकई...बधाई

    ReplyDelete
  27. kavita mam bahut hi marmik ahsas diya hai aapne........
    wo to pani ke katre hote hain jo bah jate hain.
    aansu to dard ban kar palko par rah jate hain...

    ReplyDelete
  28. kavita ji aapki is pankti ka dil kaya ho gaya "ask kaise gira doon palakon se , mere mehbub ki nishani hain" iswar aapki is khoobsurti aur shabdon ki jadugari ko banaye rakhe...

    ReplyDelete
  29. kavita ji aapki is pankti ka dil kaya ho gaya "ask kaise gira doon palakon se , mere mehbub ki nishani hain" iswar aapki is khoobsurti aur shabdon ki jadugari ko banaye rakhe...

    ReplyDelete
  30. कविता जी,

    माफ़ कीजियेगा, आपकी ग़ज़ल पढ़ी तो उसी बहर के "दो मिसरे" यकायक ज़ेहन में पैदा हो गए, सोंचा आपसे बाँट लूँ. लिहाज़ा आपकी नज़्र है :

    मेरी आँखों में जो अश्क हैं,
    उसके ग़मों की तर्जुमानी हैं.

    - दिनेश "दर्द", उज्जैन.

    ReplyDelete
  31. अश्क कैसे गिरा दूं पलकों से
    मेरे महबूब की निशानी है

    वाह! क्या कहने !

    ReplyDelete