Wednesday, March 31, 2010

ज़ुल्फ़ जब खुल के बिखरती है मेरे शाने पर zulf jab khulke bikharti hai mere shane per...

ज़ुल्फ़ जब खुल के बिखरती  है मेरे शाने पर
बिजलियाँ टूट के गिरती हैं इस ज़माने पर

हुस्न ने खाई क़सम है नहीं पिघलने की
इश्क आमादा है इस बर्फ को गलाने पर

ताक में बैठे हैं इन्सान और फ़रिश्ते भी 
सबकी नज़रें हैं टिकी रूप के खजाने पर

देखकर मुझको वो आदम से बन गया शायर 
जाने क्या-क्या नहीं गुजरी मेरे दीवाने पर

मुन्तजिर हैं ये नज़ारे नज़र मिला लूँ पर
शर्म का बोझ है पलकों के शामियाने पर

लोग समझे कि'किरण'तू है कोई मयखाना 
कोई जाता ही नहीं अब शराबखाने पर
*************
डॉ.कविता'किरण' 
('तुम्ही कुछ कहो ना!' में से)

24 comments:

  1. डॉ० साहबा आदाब अर्ज़ है । आपकी इस ग़ज़ल के मतले को पढ़ कर मेरे जिह्न में एक सवाल कौंधा । यह कि "शान" का मतलब "कंधा" होता है । इसलिए शाने एक वचन हुआ और "शानो" उसका बहुवचन ठहरा । कोई औरत संसार में ऐसी नहीं है जिसके एक ही कंधा हो और उसकी जुल्फ़ एक ही कंधे पर बिखरती हो। लिहाजा इसलिए शाने की जगह "शानो" का प्रयोग मतले में होना चहिए। ऐसा करने से मतला बदलना पड़ेगा। एक मतला यूँ भी हो सकता है।

    ज़ुल्फ़ जब खुल के बिखरती है मेरे शानो पर।
    इक कि़यामत सी गुज़र जाती नौजवानों पर॥
    सद्भावी-डॉ० डंडा लखनवी

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छी प्रस्तुति। सादर अभिवादन।

    ReplyDelete
  3. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  4. ताक मे बैठे है इन्सान और फ़रिश्ते भी .... क्य बात है सभी को लपेट लिया.

    ReplyDelete
  5. कोई जाता ही नहीं अब शराबखाने पर


    shekhar kumawat

    http://kavyakalash.blogspot.com/

    ReplyDelete
  6. kavita ki kiran nahi suraj ho tum ,jab likhti ho to padne walo ki aankhe chundhiya jati hai .......lajawab

    ReplyDelete
  7. shukriya praveshji.aapki paintings bhi lajawab hain.

    ReplyDelete
  8. आपका ये अंदाज़ बहुत दिलचस्प है..ग़ज़ल बेहद पसंद आयी...वाह...दाद कबूल करें
    नीरज

    ReplyDelete
  9. डंडा साहब की तजवीज गौर फरमाने लायक है...
    नीरज

    ReplyDelete
  10. aaderniya danda lakhnavi sahib! aur neeraj ji!aapki salah sir-aankhon per.lekin main darasal bolchal ki bhasha mein hi gazal kahti hun.kandhe beshak do hote hain lekin jaroori nahi zulfen dono kandho per bikhri ho.zulfen to chehre per, mathe per,peeth per aankhon per bhi bikhar sakti hain isi tarah ak taraf ser jhukaker agar tirchhi chitvan se dekhen to aik kandhe per bhi jhool jati hain.
    waise aapne matla bahut achha diya hai lekin iske liye puri gazal ke kafiye badalne padenge.issi tarah margdarshan aage bhi dete rahenge yahi umeed karti hun.shukriya.

    ReplyDelete
  11. bahut acha likha aapne. dhanyawad. mai aapki poems se prabavit hua. meri kamna hai ki aap mere blogs pade us par tippni kare.
    mai scretchmysoul.com par likhta hun.awashya comment kijiye.
    sadar

    ReplyDelete
  12. किरन जी,
    नमस्कार...आप के ब्लाग पर आकर बहुत ही अच्छा लगा....एक तो यही वजह है कि आप की शैली कुछ मेरी ही तरह है...इस ग़ज़ल के क्या कहने........वाह...वाह...वाह...
    ग़ज़ल आम बोलचाल की भाषा में ही ज्यादा अच्छी लगती है और मैं आप की इस बात से सहमत हूँ......
    बहुत बहुत बधाई.......

    ReplyDelete
  13. lakhnavi sahib aapne jo matla kavita sahiba ko pesh kiya hai wo behar se khariz hai ''nojawanon''ka qafiya is behar main nahin aa sakta

    ReplyDelete
  14. aap ki ghazalen zara peeche kheench ke le jaati hain ..yani is daur ke saath nahi chalteen ... fir bhi achhi hain ...likhti rahiye....

    ReplyDelete
  15. Hi dear ! seen your blog it is heart touching, kuch to hai aap ki lekhani me....after quite a long time find every thing in meter....nice...

    ReplyDelete
  16. swapnil ji daur chahe naya ho ya purana vyakti ki bhavnayen nahi badalti.wo samay samay per har dour ko apni sanso ke sath jeeta hain.mahsoos karta hai.tippani ke liye shukriya.

    ReplyDelete
  17. ताक में बैठे हैं इन्सान और फ़रिश्ते भी
    सबकी नज़रें हैं टिकी रूप के खजाने पर....

    हासिले-ग़ज़ल शेर...अलग और नये अंदाज़ में

    ReplyDelete
  18. Kavitaji aap jab bhi kuch likhate hei dil se likhate hei and har baar aapka likha padh kar aisa lagta hei mano hei mere hi mann ki baat ho bahut bahut badhai aisa achcha likhane per and itana dil se likhane per mei to aapka diwana hu diwana rahunga and aise hi Kavita ki Kavitaye padhta rahunga

    ReplyDelete
  19. kavitaji aapki kavita vardhasharam suni, bahut acchi lagi, aaj fir DD par sunne ki chesta karunga. yadi ye kavita kisi pustak me chhapi ho ya aapke kisi blog par likhi huyi ho to bataye. aap mere is Email add. par suchit kar de. kankanibp@gmail.com

    ReplyDelete
  20. Kavita ji aap ki jagal ka adhen kia aur bhao ko mahsoos kiya.Rachna sheelta par aapki pkrd achhi hai. shubhkamnaon shit....
    aap ka videos dekha hai. pratutikarn ki itnee hi tarif hai ki agle kavisammelan me aamantrit karoon. Contact hatu apna Mob. No- presit kre.
    By- Rajeev Matwala, Mast Bhawan,Lig-96, Koshalpuri Colony, Phase-1, Faizabad. (U.P)224001
    Mob-09838436111 & 09335091525
    Email-www.rajeevmatwala@gmail.com
    Visit site-www.Rajeevmatwala.wordpress.com

    ReplyDelete
  21. Kavita Ji, Blog pe aap ki gazal padi.Gazal pe Danda Lakhnavi ka comment sahi hai par suggest kiya hua MATLE ka vikalp sahi nahi hai.Zaheen Beekaneri JI ne yeh baat apne comment men kahi bhi.Yun to gazal men fanni khamiyan bahut hain par matla aise ho sakta hai:-
    Haye re zulf teri khul ke bikhar jaane par.
    Bijliya toot ke girti hain is zamane par .
    KUNWAR KUSUMESH,09415518546(M),
    blog:kunwarkusumesh.blogspot.com
    E-mail:kunwar.kusumesh@gmail.com

    ReplyDelete