Monday, March 15, 2010

मेरी आँखों में अगर झांकोगे जल जाओगे



 ज़ख्म ऐसा जिसे खाने को मचल जाओगे
इश्क की राहगुज़र पे न संभल पाओगे 
          
मैं अँधेरा सही सूरज को है देखा बरसों
मेरी आँखों में अगर झांकोगे जल जाओगे


ye sher mere pasandeeda gazal gayak gulam ali sahab ke liye
मैंने माना कि हो पहुंचे हुए फनकार मगर
एक दिन मेरी  किताबों से ग़ज़ल गाओगे

इतना कमसिन है मेरे नगमों का ये ताजमहल
तुम भी देखोगे तो दोस्त! मचल जाओगे

'किरण' चाँद से कह दो कि इतरो इतना 
रात-भर चमकोगे कल सुबह तो ढल जाओगे
          ************* डॉ कविता'किरण


24 comments:

  1. chand ko kah do ki itna na itrao,
    raat bhar chamkoge subh dhal jaoge!!
    wah kiran ji aanand aa gaya kya sher likha hai aapne... woh subh kab aayegi jab chand dhal jayega....
    badhai ho... behtrin gzal ke liye
    gulam nabi
    www.gulamnabi86.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. ग़ज़ल दिल को छू गई।
    बेहद पसंद आई।

    ReplyDelete
  3. मैंने माना कि हो पहुंचे हुए फनकार मगर
    एक दिन मेरी किताबों से ग़ज़ल गाओगे
    वाह क्या जज़्बा है, आमीन.

    ReplyDelete
  4. ग़ज़ल दिल को छू गई।
    बेहद पसंद आई।

    ReplyDelete
  5. भावों को इतनी सुंदरता से शब्दों में पिरोया है
    सुंदर रचना....

    Sanjay kumar
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. हर शब्‍द में गहराई, बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    Sanjay kumar
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर और मनभावन रचना!
    भारतीय नव-वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  8. kamaal ki rachanaa kavita ji .... gulam ali sahab ke liye jo she'r kahaa hai rashk ho rahaa hai uspar wo mere bhi pasandidaa gazal gayak hain... badhaayee kubul karen...


    arsh

    ReplyDelete
  9. मैंने माना कि हो पहुंचे हुए फनकार मगर
    एक दिन मेरी किताबों से ग़ज़ल गाओगे

    बहुत कुछ है इसमें !

    ReplyDelete
  10. इतना कमसिन है मेरे नगमों का ये ताजमहल
    तुम भी देखोगे तो ऐ दोस्त! मचल जाओगे

    सुन्दर भावाभिव्यक्ति बेहतरीन गजल

    ReplyDelete
  11. मैं अँधेरा सही सूरज को है देखा बरसों
    मेरी आँखों में अगर झांकोगे जल जाओगे
    I dedicate this one to myself :)

    ReplyDelete
  12. पूरी गजल बहुत ही खूबसूरती से रची गयी है----हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  13. bahut khoob kaha kavitaji aap jo likhte hei aisa lagta hei mano mere dil mei bhi to kahi aise vichar aaye the aapne mere mann ki bat kahi isake liye aapko dhanyawaad itna achche dhang se aapne sab kuch kah diya ki padh kar dil ko bhaa gaya ........... Aap aise hi likhte rahe and hum aise hi padhte rahe evam hamara sath bana rahe chir kaal tak ........... aapka apana shishir

    ReplyDelete
  14. डॉक्टर कविता किरणजी का चिट्ठा जगत में स्वागत है. आपकी ग़ज़ल बहुत अच्छी है.
    "चाँद गर होगा नहीं तो क्या किरण कैसी किरण
    फिर नहीं कहना कभी ए चाँद तुम ढल जाओगे "
    मेरे ब्लॉग पर आपका इंतज़ार रहेगा.
    www.jogeshwargarg.blogspot.com

    ReplyDelete
  15. kiran sirf chand ki hi nahi. suraj ki bhi hoti hai.shayed wahi main hun.

    ReplyDelete
  16. कैसा अजीब ये जूनून, मेरे दिल में समाया |
    हजारो चहरो में बस तेरा ही चेहरा भाया ||


    shekhar kumawat

    http://kavyawani.blogspot.com/

    ReplyDelete
  17. इतना कमसिन है मेरे नगमों का ये ताजमहल
    तुम भी देखोगे तो ऐ दोस्त! मचल जाओगे...
    इस अंदाज़ के शेर पर दाद कुबूल फ़रमाईयेगा
    ग़ज़ल का हर शेर बेहतरीन शायरी का सबूत है...

    ReplyDelete
  18. ऐ 'किरण' चाँद से कह दो कि न इतरो इतना
    रात-भर चमकोगे कल सुबह तो ढल जाओगे
    kamaal kar dia aapne.kya sayari hai
    adaab

    ReplyDelete
  19. Kavita Ji , Apki Shayri Me Dard HAi jo Dil ko chu leta hai all poetry are fabiloious & Cute Pls send me some poets on my email is ankush1087@gmail.com , i am waiting for ur mail

    ReplyDelete
  20. Aap ke liye me to etna hi khunga k.........

    A aasma ke chand etna na etra, jmin pe bhi chand rehte he.

    tuj me to daag he mager yha bEDAAG REHTE HEN.

    wakei me aap ki shayry me jo dard chupa he wh ek jjba he. Very nice. and good wishis for you.

    ReplyDelete
  21. kahna to ashan hian magar koun kar gujarega
    ye to wakt hi batyega ki koun khara utrega...

    ReplyDelete