Sunday, August 22, 2010

रक्षाबंधन के शुभ अवसर पर ***********

 
नहीं चाहिए मुझको हिस्सा माँ-बाबा की दौलत में
चाहे वो कुछ भी लिख जाएँ
भैया मेरे ! वसीयत में

नहीं चाहिए मुझको झुमका चूड़ी पायल और कंगन 
नहीं चाहिए अपनेपन की कीमत पर बेगानापन 
 
 मुझको नश्वेर चीज़ों की दिल से कोई दरकार नहीं 
संबंधों की कीमत पर कोई सुविधा स्वीकार नहीं 

माँ के सारे गहने-कपड़े  तुम भाभी को दे देना
बाबूजी का जो कुछ है सब ख़ुशी ख़ुशी तुम ले लेना

 
चाहे पूरे वर्ष कोई भी चिट्ठी-पत्री मत लिखना

मेरे स्नेह-निमंत्रण का भी चाहे मोल  नहीं करना

 
नहीं भेजना
तोहफे मुझको चाहे तीज-त्योहारों पर  
पर  थोडा-सा हक दे देना बाबुल के गलियारों पर

रूपया पैसा कुछ ना चाहूँ..बोले मेरी राखी है
आशीर्वाद मिले मैके से मुझको इतना काफी है


 तोड़े से भी ना टूटे जो ये ऐसा मन -बंधन है 
इस  बंधन को सारी दुनिया कहती रक्षाबंधन है 

तुम भी इस कच्चे धागे का मान ज़रा-सा रख लेना
  कम से कम राखी के दिन बहना का रस्ता तक लेना

****************
कविता"किरण"
***रक्षा बंधन की हार्दिक शुभकामनाएं***

18 comments:

  1. आत्मीय संबंधों को झकझोरती हुई , रक्षाबंधन के अवसर पर भाई की याद में सुंदर रचना ,बधाई

    ReplyDelete
  2. रक्षाबंधन के अवसर पर भाई की याद में सुंदर रचना ,बधाई

    ReplyDelete
  3. भई बहन के पवित्र प्रेम के प्रतीक रक्षा बंधन पर्व की हार्दिक शभकामनाएं.

    ReplyDelete
  4. यह कविता तरल संवेदनाओं से रची गई है। जो दिल से पढ़ने की अपेक्षा रखती है।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर रचना ,
    भाई बहन का ये रिश्ता ही ऐसा है कितना पावन कितना निश्छल और निर्मल,
    भावों की सार्थक अभिव्यक्ति
    शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  6. रक्षाबंधन के अवसर पर आपकी रचना दिल को छू गयी ।

    ReplyDelete
  7. नहीं भेजना चाहे मुझको तोहफे तीज-त्योहारों पर
    पर थोडा-सा हक दे देना बाबुल के गलियारों परकविता मेम ,
    प्रणाम !
    ऊपर के ये पंक्तिया मन को थोडा विचलित कर देती है , यथार्थ है सब कुछ !
    साधुवाद !

    ReplyDelete
  8. बहुत भावपूर्ण सन्देश ...सच, हर बहन यही चाहती है बस ...

    ReplyDelete
  9. बहुत भावपूर्ण!

    ReplyDelete
  10. बहुत मार्मिक ... भाई तो हमेशा साथ हैं बहनों के .... आपकी आकांक्षा पूरी होगी ...

    ReplyDelete
  11. रक्षाबंधन के पावन पर्व पर आपको हार्दिक बधाई !!

    ReplyDelete
  12. आकांक्षा और क्षितिज को ढेर सारा प्यार!
    --
    भाई-बहिन के पावन पर्व रक्षा बन्धन की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    --
    आपकी पोस्ट की चर्चा यहाँ भी है!
    http://charchamanch.blogspot.com/2010/08/255.html

    ReplyDelete
  13. BHAAVNAO SE BHARPOOR RACHNA . MAN KO CHOOTI HUI .. AAPKI POETRY TO BAS KAMAL KI HAI ...


    BADHAYI SWEEKAR KARE..

    VIJAY

    WWW.POEMSOFVIJAY.BLOGSPOT.COM

    ReplyDelete
  14. संवेदनशील कविता...

    ReplyDelete
  15. atisundar rachna ...... bahut khub

    ReplyDelete
  16. BEAUTIFUL RACHNA KE LIYE DHANYAVAD.MERA BLOG-'jugal's views' mila ya nahin?

    ReplyDelete
  17. मंगलवार 20/08/2013 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं ....
    आपके सुझावों का स्वागत है ....
    धन्यवाद !!

    ReplyDelete