Tuesday, November 3, 2009

वक्त लिखता है वो नगमें


धूप है, बरसात है, और हाथ में छाता नहीं
दिल मेरा इस हाल में भी अब तो घबराता नहीं

मुश्किलें जिसमें न हों वो जिंदगी क्या जिंदगी
राह हो आसां तो चलने का मज़ा आता नहीं

चाहनेवालों में शिद्दत की मुहब्बत थी मगर
जिस्म से रिश्ता रहा, था रूह से नाता नहीं

मांगते देखा है सबको आस्मां से कुछ न कुछ
दीन हैं सारे यहाँ, कोई भी तो दाता नहीं

पा लिया वो सब कतई जिसकी नहीं उम्मीद थी
दिल जो पाना चाहता है बस वही पाता नहीं

जिंदगी अपनी तरह कब कौन जी पाया 'किरण'
वक्त लिखता है वो नगमें दिल जिसे गाता नहीं
*********************************************************
डॉ
कविता'किरण'




17 comments:

  1. are wah kavita ? maine socha nahin tha ki tumse is tarah mulaqat ho sakti hai .bahut accha laga tumse yun mil kar aur tumhara blog dekh kar.ab to milte hi rahenge YAHAAN stage par chahe milen ya nahin .shubhkaamnaon ke saath
    LATA

    ReplyDelete
  2. wah...sardiyan nazdeek hain...bhale hee mausam koi sa bhi ho...ap har mausam ko bakhubhi samajhti hain...aur barsat ka to kya kahne...mangte dekha hai sabko asman se kuch na kuch, deen hain sare yahan koi bhi to data nahi...wah wah wah...behtareen

    ReplyDelete
  3. जिंदगी अपनी तरह कौन जी पाया.....
    वाह-वाह.....

    ReplyDelete
  4. बहुत खूबसूरत ग़ज़ल कही है आपने किरण जी हर शेर मुकम्मल और बोलता हुआ है...इस शानदार ग़ज़ल के लिए ढेरों बधाईयाँ...

    नीरज

    ReplyDelete
  5. बहुत ही शानदार रचना है. शब्द शब्द बहुत सलीके से सन्जोया है
    ऐसी ही और रचनाओ का इन्तज़ार रहेगा जी.

    ReplyDelete
  6. एक सलाह है कविता जी
    शब्द वेरीफ़िकेशन हटा ले तो सभी को आसानी रहेगी टिप्पणी कर्ने मे

    ReplyDelete
  7. कविता जी ,
    मुश्किलों , संघर्षों का दूसरा नाम ही जीवन है .

    ReplyDelete
  8. इतनी सारी किताबे पढने को कब मिलेगी

    ReplyDelete
  9. Khoobsoorat foto ke saath ek bahut hi khoobsoorat rachna..........


    Regards......

    ReplyDelete
  10. वक़्त लिखता है वो नगमे...

    भावपूर्ण रचना.

    ReplyDelete
  11. waqt likhta hai wo nagmen dil jise gata nahi ..complete line for the life u potray v nice poem by using v simple words gud gazal....waqt jo bhi likhta hai ..wo nagmen dil kabhi ga nahi sakta ....dil aur samay ka talmel agar ho jaye to sab kuch hassil ho jata hai ..jo nahi mila uske saath jeevan chalta hai jo mil gaya wo kabhi sayad dil mein tha hi nahi ...aapki gazal v uski saral bhasha v gazal ki lay prabhavit kerti hai ....

    ReplyDelete
  12. dil ko chhu gayi aapki kavitayen....
    Renu.

    ReplyDelete
  13. Apne mere DIL KI BAAT kahi.....Kiranji.....

    ReplyDelete